Rajasthan GK in Hindi : वन सम्पदा राजस्थान सामान्य ज्ञान

Rajasthan GK in Hindi : वन सम्पदा राजस्थान सामान्य ज्ञान General knowledge questions of Rajasthan in Hindi pdf rajasthan gk in hindi online test

Rajasthan GK in Hindi : वन सम्पदा राजस्थान सामान्य ज्ञान

  • राजस्थान का वह जिला, जहॉ उष्ण कटिबन्धीय शुष्क पर्णपाती वन पाये जाते हैं, वह है-
    – सिरोही
  • थार का कल्पवृक्ष कहा जाने वाला वृक्ष है-
    -खेजड़ी
    व्याख्या – इसे शमी, जाटीख् छोंकड़ा भी कहा जाना है। खेजड़ी का वैज्ञानिक नाम ‘प्रोसोसिप सिनेरिया’ है। खेजड़ी को 1983 में राज्य वृक्ष घोषित किया गया था। राजय में दशहरे के अवसर पर खेजड़ी का पूजन किया जाता है। खेजड़ी का पूजन शीतला माता के प्रतीक के रूप में भी किया जाता है। प्रसिद्ध लोक देवता गोगाजी का स्थान भी खेजड़ी के वृक्ष के नीचे स्थित होता है।
  • किस वृक्ष का वैज्ञानिक नाम प्रोसेसिप सीनेरिया है-
    -खेजड़ी
    व्याख्या – खेजड़ी को थार का कल्पवृक्ष कहा जाता है। इसे स्ािानीय भाषा में जाटी वृक्ष भी कहा जाता है।
    खेजडी की पत्तियों को लूम व फलियों को सांगरी कहा जाता है।
  • राजस्थान का राज्य वृक्ष है-
    – खेजड़ी
  • राज्य पुष्प जिसे राजस्थान का सागवान कहा जात है-
    -रोहिड़ा
    व्याख्या – रोहिडा का फूल 1983 ई. में राजकीय पुष्प घोषित किया गया। इसका वैज्ञानिक नाम टेकोमेला अंडुलेटा है।
    राहिड़ा के फुल को जोधपुर में मारवाड टीक नाम से जाना जाता है।
  • राजस्थान का राज्य पक्षी है-
    -गोडावन
  • किस जिले का सम्बन्ध सेवण घास से है-
    -जैसलमेर
  • राजस्थान में सागवान बनों के लिए कौनसा जिला प्रसिद्ध है-
    -बॉंसवाडा
  • राजस्थान में उगने वाले अर्जुन वृक्ष का मुख्य महत्त्व क्या हैं-
    -यह परोक्ष रूप से टसर रेशम के उत्पादन से जुड़ा हुआ हैं
  • पर्यावरण एवं वन मंत्रालय के 2001 के आंकड़ो के अनुसार राजस्थान में वनक्षेत्र का प्रतिशत क्या है-
    – 9.5 प्रतिशत
  • राजस्थान का कौनसा हिस्सा बड़े पैमाने पर वन क्षेत्र से रहित हैं-
    – पश्चिमी
  • शुष्क वन अनुसंधान संस्थान कहॉ स्थित है-
    -जोधपुर
  • राज्य का न्यूनतम वन क्षेत्र वाला जिला है-
    -चूरू
  • ‘स्मृति वन’ कहॉ विकसित किया गया है-
    -झालाना (जयपुर)
  • राजस्थान में घास के मैदान या चारागाहों को कहा जाता है-
    -बीड़
  • राज्य में सबसे अधिक आरक्षित वन क्षेत्र वाले जिले कौनसे है-
    -उदयपुर, चितौड़गढ़
  • किस वृक्ष के पत्तों से बीड़ी बनाई जाती है-
    -तेंदू
  • तेंदू के पत्ते मुख्यतः जिस जिले में प्राप्त किये जाते है, वह है-
    -बॉसवाड़ा
  • ज्ंागल की आग से आशय है-
    -पलाश के फूलों से
  • राजस्थान में प्रति हैक्टेयर सर्वाधिक जैव विविधता वाला देव वन किस जिले में है-
    -कोटा

GK Read More :-

राजस्थान परिवहन Top Quiz

राजस्थान का परिचय

  • राजस्थान में वन मण्डलों की संख्या है-
    – 13
  • राजस्थान में वन्य जीव अभ्यारण्य कितने हैं-
    -25
  • राज्य में नई वन नीति घोषणा कब हुई-
    -18 फरवरी 2010
  • राजस्थान में ‘शुष्क सागवान वन’ कहॉ पाये जाते है-
    -डूॅंगरपुर व बॉसवाड़ा में
    व्याख्या – ये वन चित्तौड़गढ़, बॉसवाड़ा,डूॅगरपुर,राजसमंद, कोटा व बारां जिलों में पाये जाते है। यहां पर वार्षिक वर्षा 80 सेमी स 100 सेमी तक होती है।
  • कौनसे वृक्ष को -जंगल की आग’ के द्वारा सम्बोधित किया जाता है-
    – ढाक
    व्याख्या – वह वृक्ष 80 सेमी से अधिक वर्षा क्षेत्रों में पाया जाता है। इसका प्रयोग प्राकृतिक रंगों के निर्माण में भी किया जाता है।
  • राजस्थान का लगभग कितने प्रतिशत भौगोलिक भाग वनाच्छादित है-
    -7 से 9 प्रतिशत
  • धोकड़ा है-
    -वृक्ष
  • घामण्ड, घरड़ एवं अंजन है
    – राजस्थान में घास की किस्में
  • रखत, कांकड़, डांग और रूद ये सभी-
    – वनों के संरक्षण से संबंधित है
  • अमृतादेवी मृग वन स्थित है-
    -खेजड़ली
  • महुआ के पेड़ किन जिलों में होते हैं-
    -उदयपुर, चित्तौड़गढ़
    व्याख्या – महुआ का उपयोग देशी शराब के निर्माण में किया जाता है।
  • राजस्थान राज्य के कुल प्रतिवेदन क्षेत्रफल में वन भूमि है-
    -7.8 प्रतिशत
  • राज्य में कुल कितने राष्ट्रीय उद्यान है-
    -3
    व्याख्या – राजस्थान में रणथम्भैर राष्ट्रीय उद्यान (1980 में घोषित) व केवलादेव राष्ट्रीय उद्यान, भरतपुर (1981 में घोषित) में स्थित है।
  • रिमोट सेंसिग एप्लीकेशन सेंटर की स्थापना राज्य में कहॉ की गई है-
    -जोधपुर
  • अमृतादेवी पुरस्कार किससे सम्बन्धित है-
    -वन सरंक्षण
    व्याख्या – यह राज्य स्तरीय पुरस्कार 1994 से वन एवं वन्य जीवों के संरक्षण के लिए दिया जाता है। यह तीन रूपों में प्रदान किया जाता है।
    1 वन विकास, संरक्षण एवं वन्य जीव सुरक्षा में उत्कृष्ट कार्य करने वाली ग्राम पंचायत/ग्राम स्तरीय संस्थाओं/वन सुरक्षा प्रबंध समितियों को 50,000 रूपये व प्रमाण पत्र ।
    2 वन विकास, संरक्षण एवं वन सुरक्षा में उत्कृष्ट कार्य करने वाला व्यक्ति 25000 रूपये व प्रमाण पत्र।
    3 वन्य जीव विकास, संरक्षण एवं वन्य जीव सुरक्षा में उत्कृष्ट कार्य करने वाला व्यक्ति 25000 रूपये व प्रमाण पत्र।
  • सेवण है-
    -एक घास का नाम
  • ‘सेवण घास’ किस जिले में विस्तृत रूप से उगती है-
    -जैसलमेर
    व्याख्या – इसको वैज्ञानिक नाम ‘लसियुरूस सिड़कुस’ है। सूखी सेवण घास को लीलोण कहा जाता है।
  • सागवान रोपण हेतु सबसे उपयुक्त जिले है-
    -बॉंसवाड़ा एवं उदयपुर
  • राजस्थान के किस क्षेत्र में सागवान के वन पाये जाते हैं-
    -दक्षिणी
  • ‘रूख भायला’ का अर्थ है-
    -वृक्ष मित्र से
    व्याख्या – इस कार्यøम का प्रारम्भ 1986 में तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गॉधी के द्वारा डूॅंगरपुर जिले के बगतरी गॉव में किया गया था।
  • राजस्थान का राज्य वृक्ष खेजड़ी-थान का कल्पवृक्ष कहलाता है। यह राज्य में वन क्षेत्र के कितने भाग में पाए जाते हैं-
    -2/3
  • रेगिस्तान का सागवान कौनसा वृक्ष कहलाता है-
    -रोहिड़ा
  • प्राचीन एवं विशिष्ट प्रजातियों के वृक्षों की पहचान सुरक्षित करने के उदेश्य से किस पुरस्कार की स्थापना की गई-
    -महावृक्ष पुरस्कार
    व्याख्या – राज्य में सर्वाधिक वन क्षेत्र वाला जिला उदयपुर है। उदयपुर में 4141.69 वर्ग किमी. वन है। जो राज्य के कुल वन क्षेत्र का 12.66 प्रतिशत है।
  • राजस्थान के पश्चिमी भाग में वन किस रूप में है-
    -वन, कांटेदार पेड़ व झाड़ियों (मरुद्भिद) के रूप में
  • खेजड़ी वृक्ष की पूजा किस पर्व पर की जाती है-
    -दशहरा
  • राज्य पुष रोहिड़ा राजस्थान के किस भाग में सर्वाधिक पाया जाता है-
    -पश्चिमी राजस्थान
  • राजस्थान में सर्वाधिक वन क्षेत्र है-
    -उदयप ुर एव राजसमंद जिलों में
  • अमृतादेवी स्मृति पुरस्कार जिसके लिए दिया जाता है-
    -वन एवं वन्य जीवों की सुरक्षा के लिए
  • राजस्थान में बार-बार होने वाले ‘सूखे एवं अकाल’ का प्रमुख कारण है-
    -अनियमित वर्षा
  • राजस्थान में वनों की कमी का प्रमुख कारण है-
    -जलवायु परिवर्तन
  • राजस्थान में कौनसी मुख्य वन उपज नहीं मानी जाती है-
    -बॉंस
  • भारत में सागवान के उत्पादन में निरंतर कमी हो रही है, राजस्थान के वे कौनसे जिले है जो सागवान की वृद्धि में सहायक सिद्ध हो सकते है-
    -बॉसवाड़ा-उदयपुर
  • राजस्थान में कौनसी मुख्य वन उपज नहीं मानी जाती है-
    -बॉंस

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *